Wednesday, October 12, 2011


अभी जिंदा है मां मेरी, मुझे कुछ भी नहीं होगा,
मैं घर से जब चलता हूं, दुआ भी साथ चलती हैं’.
मुन्नवर राणा

No comments: