Tuesday, October 4, 2011

आज मैंने भी एनडीटीवी पर जब सुना कि अन्ना शाही अब हुक्म देने लग गयी है और हमें समझा रहे है कि किसे वोट देना है किसे नहीं तो तो बहुत अचरज हुआ कि अन्ना किस अधिकार के तहत यह कह रहे है कि कांग्रेस को वोट मत दो........लोकतंत्र की बात करने वाले लोग दूसरों पर अपनी व्यक्तिगत राय कब से थोपने लगे और ऊपर से इस तरह के मुद्दों को हवा देकर या एक पार्टी विशेष को वोट ना देकर क्या कह रहे है अन्ना कि भाजपा को वोट दे या अब उनकी तमन्नाएं फ़िर हिलोर लेने लगी है . कमाल यह है कि रामलीला के मैदान की नौटकी के समय तो पुरे फेसबुक पर लोग पुरजोर तरीके से कोस मसोज या चरण वन्दना कर रहे थे पर अब इन सबके रंग दिखने लगे है तो कहाँ गायब हो गए है वो लोग.......और शहर दर शहर टेंट के तम्बू गाडकर खिलाफत करने वाले क्या अन्ना की राजनीती समझ गए है या अब उन्हें समझ आ गया है कि वे इस्तेमाल किये गए.इस पुरे दौर में......???? बिलकुल सही है ये सब आडवानी की यात्रा के पहले और रामलीला के बाद क्यों है सीधा सीधा कह देते कि देश के हिन्दुओ एक हो जाओ और मोदी या आडवानी को वोट दो.............१३ दिन तक देश को हिलगा कर रखा और अब पीछे से ज्ञान की दूकान खोके बैठे है साथ ही जनमत के बहाने लोगो को रथ यात्रा की तैय्यारी करवा रहे है फ़िर उ प्र ही निशाना क्यों..............अपनी दुश्मनी की सजा हम सबको क्यों दे रहे है..............अन्ना.......रालेगाव् जाए बाकी टीम रोजगार ग्यारंटी योजना के तहत काम करके कमाए खाए............बहुत हो गयी राजनीती.........

No comments: