Thursday, October 13, 2011

तेरे बिन मेरा ह्रदय, है ऐसा सुनसान |
बंद गली में हो बना, ज्यों आख़िरी मकान ||

ओम वर्मा

No comments: