Friday, October 21, 2011

'वो बड़ा रहीम-ओ-करीम है मुझे ये सिफत भी अता करे
तुझे भूलने की दुआ करूँ तो दुआ में मेरी असर न हो।"

-बशीर बद्र

No comments: