Monday, October 10, 2011

कभी खामोश बैठोगे कभी कुछ गुनगुनाओगे
में उतना याद आउंगा मुझे जितना भुलाओगे...........

जगजीत सिंह के हिन्दी में गजल के योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा.......वो सिर्फ एक गायक ही नहीं बल्कि बेहतरीन शख्स थे, विश्व ने एक प्यारा इंसान पुनः खो दिया यह सब यकायक होने जैसा नहीं था............भावपूर्ण श्रद्धांजलि .......

No comments: