Wednesday, November 23, 2011

आस उस दर से टूटती ही नहीं
जाके देखा न जाके देख लिया...
हो गया हूँ अब मैं खुदरा ,
इस तरह खरचा हूँ खुद को .......

No comments: