Friday, November 4, 2011

लब पे आता नहीं था नाम उनका..आज आया तो बार-बार आया..
बेवजह बेकरार रहते थे..बेवजह आज फिर करार आया...
-गुलज़ार

No comments: