Wednesday, November 2, 2011


सुन रहे हो..........कहाँ हो..............तुम..............

तुम तकल्लुफ़ को भी इखलास समझते हो फराज... !
दोस्त होता नहीं हर हाथ मिलाने वाला........ !!

No comments: