Tuesday, August 9, 2011

महमूद दरवेश को याद करते हुए

भाई अशोक पाण्डेय के सौजन्य से


महमूद दरवेश
[ 13 मार्च 1941 -- 9 अगस्त 2008 ]



अगर लौट सकूं शुरूआत तक
कुछ कम अक्षर चुनूंगा अपने नाम के लिए
:: :: ::

अगर जैतून के तेल जानते होते उन हाथों को
जिन्होनें रोपा था उन्हें,
आंसुओं में बदल गया होता उनका तेल
:: :: ::

आसमान पीला क्यूं पड़ जाता है शाम को ?
क्यूंकि तुमने पानी नहीं दिया था फूलों में.
:: :: ::

मैं भूल गया बड़ी घटनाएं और एक विनाशकारी भूकंप
याद है मुझे आलमारी में रखी अपने पिता की तम्बाकू.
:: :: ::

इतना छोटा नहीं हूँ कि बहा ले जाएं मुझे शब्द
इतना छोटा नहीं हूँ कि पूरी कर सकूं यह कविता.
:: :: ::
(अनुवाद : मनोज पटेल

No comments: