Monday, August 1, 2011






तुम्हारे लिए है..............

जब तवक्को ही उठ गई ग़ालिब
क्यों किसी का गिला करे कोई !

No comments: