Saturday, August 6, 2011

गवाही दो



यह वक्त वक्त नहीं
एक मुकदमा है
या तो गवाही दो
या गूंगे हो जाओ हमेशा हमेशा के वास्ते

-चंद्रकांत देवताले

No comments: