Monday, January 16, 2012

'फ़िराक' एक-एक हसरत मिट रही है
ये मातम रात भर है और मैं हूँ.
-फ़िराक

No comments: