Wednesday, January 18, 2012

फ़िर एक बार फराज़ ................



अपने हालात का भी एहसास नहीं मुझको "फ़राज़"
मैंने औरों से सुना है के परेशां हूँ मैं!

No comments: