Saturday, January 14, 2012

यह वैराग्य है, मतिभ्रम या मोह भंग

ये शहर जिसका नाम देवास है, इसके गली मोहल्ले कितने बदल गए है, वो चौबारे भी अब खत्म हो गए है जहां मै पला बढ़ा और अब देहलीज से निकल कर अपनी मंजिल की ओर हूँ......हर बार आता हूँ तो एक किसी जगह पर मृत्यु पर संवेदनाएं व्यक्त करने जाना ही पडता है अपने परिचित लोग धीरे धीरे खत्म हो रहे है वो लोग जिनके साये में मै बड़ा हुआ या साथ के लोग जिनके साथ एक साझी विरासत शेयर की थी, या वो लोग जो मेरे सामने पैदा हुए, बड़े हुए और बस स्थापित हो ही रहे थे दुनियादारी सम्हाल ही रहे थे कि काल के विशाल गाल में समा गए.....निश्चित ही मुझे शिकायत है इस शहर से --क्यों लील रहा है इन अबोधो को, अभी अभी एक पुराने मठकरी परिवार में होकर आ रहा हूँ जहां मौत ने एक स्टेप आगे बढ़कर उनकी बेटी को छीन लिया....मौत का क्रन्दन और जीवन पर मौत का परिहास मेरे कानो में गूँज रहा है. शहर में अट्टालिकाएं खडी हो गयी है गाड़ी घोड़े बढ़ गए है, युवाओं के चेहरे की दमक और लक-झक भी बढ़ गयी है पर एक चिर शान्ति मुझे कही दिखाई नहीं दी.हडबड़ाहट है पता नहीं ये कस्बे को क्या हो गया है जीवन में मजे ले लों की तर्ज पर सब कुछ चल रहा है जो गलत नहीं है बस अपने आप को इन सबसे जुदा पा रहा..यह वैराग्य है, मतिभ्रम या मोह भंग.....या मै पीछे हूँ बहुत पीछे .....पता नहीं पर अब अपना कस्बा अपना नहीं लगता अपनी पहचान बताना अपने आप को सबसे बड़ी पीड़ा है........

No comments: