Tuesday, January 10, 2012

रिश्तों की भीड़ में कही गुम गया था अक्स मेरा,
हर चेहरे ने रंग बदला तो खुद से मुलाक़ात हो गयी...

No comments: