Friday, September 30, 2011








तुम्हारे लिए................सुन रहे हो..............कहाँ हो.............??????????

मुझे कौन पूछता था तेरी बंदगी से पहले
में बुझा हुआ दिया था तेरी रोशनी के पहले...........

No comments: