Monday, September 12, 2011

मेरी तलाश छोड़ दे तू

तुम्हारे लिए ..............सुन रहे हो तुम.........................???????????

मेरी तलाश छोड़ दे तू मुझको पा चुका,
मैं सोच की हदों से बहुत दूर जा चुका
लोगो ! डराना छोड़ दो तुम वक्त़ से मुझे,
यह वक्त़ बार बार मुझे आज़मा चुका
दुनिया चली है कैसे तेरे साथ तू बता,
ऐ दोस्त मैं तो अपनी कहानी सुना चुका

-नक़्श लायलपुरी

No comments: