Monday, September 26, 2011

दुःख को कविता में रो देना
यह कविता की रात है
दुःख से लड़कर कविता लिखना
गुरिल्ला शुरुआत है.

-- कुमार विकल

No comments: