Saturday, September 3, 2011

बच्चे का जन्म लेना सबूत हें

जिस काम को करके व्यक्ति पछताता हे वाही पाप हे |
मनुष्य चिंताए करता हे मगर चिंतन नहीं करता , यही कारण हे कि उसे शांति नहीं मिलती |
अधिक बोलने की अपेक्षा अधिक सुनने की आदत व्यक्ति को उन्नति के मार्ग पर ले जाती हे |
जो आदमी बदला लेने की सोचता हे वह अपना ही घाव हरा रखता हें |
" हर दिन एक बच्चे का जन्म लेना सबूत हें ,इस बात का कि ईश्वर अभी भी मनुष्य से निराश नहीं हुआ हें "|
---रविन्द्र नाथ टेगोर

No comments: