Thursday, September 22, 2011

ख़ुसरो दरिया प्रेम का, उलटी वा की धार,
जो उभरा सो डूब गया, जो डूबा सो पार.

No comments: