Monday, December 19, 2011

देखना असल में देख पाना होता तो हम सच में सच देख पाते, पर हम जो देखते है वो सिर्फ देखना ही होता है देखना दिखाना तो कतई नहीं ...फ़िर देखना क्या है ...........???

No comments: