Sunday, December 18, 2011

श्रद्धांजलि अदम साहब को









काजू भुने प्लेट में व्हिस्की गिलास में,
उतरा है रामराज विधायक निवास में!
पक्के समाजवादी हैं तस्कर हों या डकैत,
इतना असर है खादी के उजले लिबास में!!

जो डलहौज़ी न कर पाया वो ये हुक़्क़ाम कर देंगे
कमीशन दो तो हिन्दोस्तान को नीलाम कर देंगे

ये बन्दे-मातरम का गीत गाते हैं सुबह उठकर
मगर बाज़ार में चीज़ों का दुगुना दाम कर देंगे

सदन में घूस देकर बच गई कुर्सी तो देखोगे
वो अगली योजना में घूसखोरी आम कर देंगे

(अदम गोंडवी जी को विनम्र श्रृद्धांजलि।)

No comments: