Friday, December 30, 2011

नए साल के संकल्प से......

नए साल में एक ही संकल्प किसी से भावुकता के रिश्ते मत रखो .............साले इंसान जूते खाने लायक ही है बस.............इन्हें एक ही तरीके से साध सकते है प्यार मुहब्बत कुछ नहीं होता बस USE & THROW का सिद्धांत इस्तेमाल करो...........................
आप जिससे प्यार करते है यदि वो आपको विश्वास नहीं दे सकता तो उसे तुरंत छोड़ दीजिए वरना पछताने के अलावा जीवन में कुछ नहीं मिलेगा.............मेरे पास एक जीवंत उदाहरण है स्पेस माँगने के चक्कर में लोग बाग आपको यूज करते है..............

जो इंसान लगातार झूठ पे झूठ अपने लोगो से बोलता रहा हो कई दिनों तक महीनों तक उसे छोड़ देना ही बेहतर है वरना एक दिन वो आपको भी बेच कर खा जाएगा................और वो भी भावनाओं को इस्तेमाल करके.......तो यह हद बेहद तके, दोनों से परे हो जाता है मामला..............

उस इंसान को छोड़ दो जो आपको बरगला के रखता है और सिर्फ झांसे में रखता हो ................और हाँ उसे भी छोड़ दो जो आपको तो मिस काल देता हो या बेलेंस ना होने के बहाने करता हो पर अपने वालो से देर रात तक बातें करता हो..........जैसे अपने रिश्तेदारों से या माशूक से या माशूका से.............और झूठ पर झूठ बोल रहा हो............बस यही सही समय है एक नए साल को शुरू करनें का

जितने लोगो को मदद की हो उन सबको भूल जाओ और फ़िर नए सिरे से एक ऐसी जिंदगी की शुरूआत करो जहा सिर्फ आप हो, मतलब हो, मौका हो और जूते हो बस यही तरीका है जीवन जीने का क्योकि लोग एक ही झटके में औकात भूल जाते है और सारे सदकर्म भूल जाते है बस यही याद रखो कि जीवन जीने के लिए जितना मतलबी और अवसरवादी बन् सकते हो बनो.......और उन सबको माफ कभी मत करो जो आपके कंधो पर चढ़कर आज सफलता के गुम्बद चूम रहे है इन सबको याद रखो और रोज बददुआएं दो जी भरके.............

लोग कमजोर होते है और बेहद स्वार्थी. वे आपको इस्तेमाल करते है और फ़िर निचुड़े हुए निम्बू की तरह छोड़ देते है ऐसे लोगो को घेर कर इतना संत्रास दो कि वे जीवन में कभी किसी को फ़िर अपने झांसे में ना ले पाए- शहर दर शहर, गली- मोहल्ले में, चौराहों और तिराहो पर इन्हें बदनाम कर दो इतना कि ये किसी को मुह दिखाने लायक नहीं रहे...........सिर्फ लोगो को इस्तेमाल करके श्रेय और ख्याति कमाने वाले और दूसरों की नींव से अपना महल बनाने वाले ऐसे लोगो को छोडो मत .........ये सब जानते है कि ये क्या कर रहे है.............इन्हें कभी माफ मत करो...............

No comments: