Tuesday, January 1, 2013



साल की पहली रात पर कितना मौंजू................

इसी खंडहर में कहीं कुछ दिये हैं टूटे हुए ,
उन्हीं से काम चलाओ बड़ी उदास है रात
- फ़िराक़ गोरखपुरी

सौजन्य - भाई Nilambuj Singh

No comments: