Tuesday, April 7, 2015

दो मिसरे


गर हो जाता मैं कम से कम अपना भी, 


तो यकीन करो तुम तो क्या जहां मेरा होता।




कहता रहा सबसे कि जुदा हो गया हूँ पूरी दुनिया से


अब जब ये चन्द साँसे बची है तो याद आ रहे हो तुम।




No comments: