Thursday, October 4, 2012

प्रशासन पुराण 59

किसी साथी ने बताया कि मप्र के मुख्य सचिव भोपाल में पैंतीस आय ए एस और आय पी एस अधिकारियों को श्रीलंका के राष्ट्रपति के सफल दौरा आयोजन की खुशी में अरेरा क्लब भोपाल में पार्टी दे रहे है, इसी दोस्त ने यह भी बताया कि यह खबर आज के जागरण में छपी है मुझे मिली नहीं, कोई लिंक बताकर मदद करेगा..............खैर अभी बड़े साहब दौरा करके लौटे है श्योपुर का जहां पच्चीस बच्चे मर गये थे और यह मरने का क्रम अनवरत जारी है. साला दो टके का कुपोषण इसका मुख्य कारण है, ये गाँव वाले ना ढंग से जीते है,, ना बच्चे सम्हालते है ना बढ़िया "न्युट्रीशियस फ़ूड" बनाकर खाते है और जब साले बच्चे मरने लगते है तों सरकार को दोष देते है.........एक तों ढेर सारे पैदा कर लेते है...........अरे भाई दे रहे है ना- राशन भले ही सुप्रीम कोर्ट के आदेश अनुसार पैंतीस किलो नहीं पर दे तों रहे है, दूसरा आंगनवाडी भी तों है ढेर सारी सुविधाएँ और योजनाएं, फ़िर साले ये एनजीओ वाले भी तों है जो यूनिसेफ और ना जाने कहाँ कहाँ से ग्रांट का जुगाड करके बैठे है, मीडिया को क्या और कोई काम नहीं है हद है यार पीछे ही पड़ गये है, ..........अब ज़रा सुस्ताने दो भाई, वैसे मप्र में बौद्ध विश्व विद्यालय का खुल जाना बड़ी बात है और बड़ा मुश्किल था तमिलनाडू से आये दस हजार लोगों को रोकना वायको को रोकना और बड़ी हिट हुई दिन में गिरफ्तार और शाम को राज्य का अतिथि है कोई ऐसा उदाहरण दुनिया में .खैर .....रिलेक्स, बाबू मोशाय, रिलेक्स........कम ऑन रिलेक्स .....(प्रशासन पुराण 59)

No comments: