Saturday, December 1, 2012

एक दिन ड़ा दिनेश कुशवाह और ड़ा प्रहलाद अग्रवाल जी के साथ रीवा में






यह ३० नवंबर की दोपहरी थी जब मैंने प्रिय मित्र, सखा और बंधू ड़ा दिनेश कुशवाह को रीवा में फोन किया और पूछा कि क्या वो रीवा में है तो बोले अरे जहां भी हो तुरंत चले आओ यहाँ ड़ा प्रहलाद अग्रवाल जी भी आये हुए है जिन्हें दिनेश प्यार से आचार्य कहता है, मै वेद के साथ भागा और जा पहुंचा विवि में हिन्दी विभाग जहां मै दर्जनों बार आया हूँ. दिनेश ने बहुत गर्मजोशी से गले लगाकर स्वागत किया और आचार्य जी से परिचय करवाया. बाद में अपनी एक कविता मेरे लिए एवं आचार्य जी के लिए पढ़ी "बडबोले" बहुत ही अदभुत कविता ढेरों सन्दर्भ, प्रसंग और मौजूदा हालात पर कचोट करने वाली बेहतरीन कविता. फ़िर गपशप, और अपनी पुस्तक "इसी काया में मोक्ष" दी, साथ ही जनपथ का ताजा अंक, और "अभिनव कदम" के भाग २७/२८ जो किसान आंदोलन पर केंद्रित थे. दो घंटे तक बहस, साहित्यिक गपशप और फ़िर गर्मागर्म पकौड़े और चाय वाह..........हाँ आचार्य जी के सुपुत्र जिन्होंने दिनेश के साथ ही हाल ही में पीएचडी पूरी की ड़ा उज्जवल अग्रवाल से मिलवाया. उज्जवल की भारतीय ज्ञानपीठ से हाल में किताब भी आई है. कितना कुछ हो जाता है चंद घंटों में हम सोच ही नहीं पाते............फ़िर बाहर आकर चंद तस्वीरें खिचवाई हम सबने और फ़िर विदाई.........इस बीच समीरा नईम से फोन पर बातें की और फ़िर दोनों ने वादा किया कि वे शीघ्र ही देवास आने का कार्यक्रम बनाएंगे .ऐसे मौके बहुत कम आते है जीवन में मेरे लिए ये यादगार भावुक क्षण थे जिन्हें मै हमेशा सहेजकर रखना चाहूँगा.

No comments: