Thursday, November 1, 2012

सारा घर ले गया घर छोड़ के जाने वाला

तुम्हारे लिए.............सुन रहे हो................कहाँ हो तुम.....................

अब खुशी है न कोई ग़म रुलाने वाला
हमने अपना लिया हर रंग ज़माने वाला

उसको रुखसत तो किया था मुझे मालूम न था
सारा घर ले गया घर छोड़ के जाने वाला

इक मुसाफ़िर के सफ़र जैसी है सबकी दुनिया
कोई जल्दी में कोई देर में जाने वाला

-निदा फाजली.

No comments: