Tuesday, November 6, 2012

जितेन्द्र श्रीवास्तव की ये ताज़ा कवितायेँ

जितेन्द्र श्रीवास्तव की ये ताज़ा कवितायेँ कुछ दिनों पहले मेल से मिलीं. उनकी कविताओं से मेरा नाता पुराना है - गोरखपुर के दिनों का. बहुत जल्दी शुरू करके और लगातार बहुत अच्छा लिखते हुए वह अब उस मुकाम पर हैं जहाँ परिचय देने की आवश्यकता नहीं होती. स्मृति उनकी कविताओं का हमेशा से एक बड़ा स्रोत रही है. अपने गाँव-क़स्बे को लगातार अपनी कविताओं में संजोते हुए उन्होंने उनसे अपने समय की बड़ी और व्यापक विडम्बनाओं के पर्दाफ़ाश की कोशिश की है. यहाँ भी एक पूर्व राजघराने की कोठी के मैदान के सार्वजनिक स्थल से निजी संपत्ति में तब्दील होने का जो एक दृश्य उन्होंने खींचा है वह हमारी सामाजिक-आर्थिक व्यवस्था का एक बड़ा बिम्ब प्रस्तुत करता है. 

चुप्पी का समाजशास्त्र
उम्मीद थी 
मिलोगे तुम इलाहाबाद में
पर नहीं मिले
गोरखपुर में भी ढूँढा
पर नहीं मिले
ढूँढा बनारस, जौनपुर, अयोध्या, उज्जैन, मथुरा, हरिद्वार
तुम नहीं मिले
किसी ने कहा
तुम मिल सकते हो ओरछा में
मैं वहां भी गया
पर तुम कहीं नहीं दिखे
मैंने बेतवा के पारदर्शी जल में
बार-बार देखा
आँखे डुबोकर देखा
तुम नहीं दिखे
तुम नहीं दिखे
गढ़ कुण्ढार के खँडहर में भी
मैं भटकता रहा
बार-बार लौटता रहा
तुमको खोजकर
अपने अँधेरे में
न जाने तुम किस चिड़िया के खाली खोते में
सब भूल-भाल, सब छोड़-छाड़
अलख जगाये बैठे हो
ताकता हूँ हर दिशा में
बारी-बारी चारो ओर
सब चमाचम है
कभी धूप कभी बदरी
कभी ठंढी हवा कभी लू
सब अपनी गति से चल रहा है
लोग भी खूब हैं धरती पर
एक नहीं दिख रहा है
इस ओर कहाँ ध्यान है किसी का
पैसा पैसा पैसा
पद प्रभाव पैसा
यही आचरण
दर्शन यही समय का
देखो न बहक गया मैं भी
अभी तो खोजने निकलना है तुमको
और मैं हूँ
कि बताने लगा दुनिया का चाल-चलन
पर किसे फुर्सत है
जो सुने मेरा अगड़म-बगड़म
किसी को क्या दिलचस्पी है इस बात में
कि दिल्ली से हज़ार किलोमीटर दूर
देवरिया जिले के एक गाँव में
सिर्फ एक कट्ठे ज़मीन के लिए
हो रहा है खून-खराबा पिछले कई वर्षों से
इन दिनों लोगों की खबरों में थोड़ी-बहुत दिलचस्पी है
वे चिंतित हैं अपनी सुरक्षा को लेकर
उन्हें चिंता है अपनी जान की
इज्ज़त, आबरू की
पर कोई नहीं सोच रहा उन स्त्रियों की
रक्षा और सम्मान के बारे में
जिनसे संभव है
इस जीवन में कभी कोई मुलाक़ात न हो
हमारे समय में निजता इतना बड़ा मूल्य है
कि कोई बाहर ही नहीं निकलना चाहता उसके दायरे से
वरना क्यों होता
कि आज़ाद घूमते बलात्कारी
दलितों-आदिवासियों के हत्यारे
शासन करते
किसानों के अपराधी
सब चुप हैं
अपनी चुप्पी में अपना भला ढूंढते
सबने आशय ढूंढ लिया है जनतंत्र में
अपनी-अपनी चुप्पी का
हमारे समय में
जितना आसान है उतना ही कठिन
चुप्पी का भाष्य
बहुत तेजी से बदल रहा है परिदृश्य
बहुत तेज़ी से बदल रहे हैं निहितार्थ
वह दिन दूर नहीं
जब चुप्पी स्वीकृत हो जायेगी
एक धर्मनिरपेक्ष धार्मिक आचरण में
पर तुम कहाँ हों
मथुरा में अजमेर में
येरुशलम में मक्का मदीना में
हिन्दुस्तान से पाकिस्तान जाती किसी ट्रेन में
अमेरीकी राष्ट्रपति के घर में
कहीं तो नहीं हो
तुम ईश्वर भी नहीं हो
किसी धर्म के
जो हम स्वीकार लें तुम्हारी अदृश्यता
तुम्हें बाहर खोजता हूँ
भीतर डूबता हूँ
सूज गयी हैं आखें आत्मा की
नींद बार-बार पटकती है पुतलियों को
शिथिल होता है तन-मन-नयन
यदि सो गया तो
फिर उठना नहीं होगा
और मुझे तो खोजना है तुम्हें
इसीलिए हारकर बैठूंगा नहीं इस बार
नहीं होने दूंगा तिरोहित
अपनी उम्मीद को
मैं जानता हूँ
खूब अच्छी तरह जानता हूँ
एक दिन मिलोगे तुम ज़रूर मिलोगे
तुम्हारे बिना होना
बिना पुतलियों की आँख होना है
  
 तमकुही कोठी का मैदान 

 तमकुही कोठी निशानी होती 
महज सामन्तवाद की 
तो निश्चित तौर पर मैं उसे याद नहीं करता 

यदि वह महज आकांक्षा होती
 
अतृप्त दिनों में अघाए दिनों की 
तो यक़ीनन मैं उसे याद नहीं करता 

मैं उसे इसलिए भी याद नहीं करना चाहता
 
कि उसके खुले मैदान में खोई थी मेरी प्राणों से प्यारी मेरी साइकिल
सन उन्नीस सौ नवासी की एक हंगामेदार राजनीतिक सभा में 

लेकिन मैं उस सभा को नहीं भूलना चाहता
 
मैं उस जैसी तमाम सभाओं को नहीं भूलना चाहता
 
जिनमें एक साथ खड़े हो सकते थे हज़ारों पैर 
जुड़ सकते थे हजारों कंधे 
एक साथ निकल सकती थीं हज़ारों आवाजें 
बदल सकती थीं सरकारें 
कुछ हद तक ही सही 
पस्त हो सकते थे निजामों के मंसूबे

मैं जिस तरह नहीं भूल सकता अपना शहर 
उसी तरह नहीं भूल सकता
तमकुही कोठी का मैदान 
वह सामंतवाद की क़ैद से निकलकर 
कब जनतंत्र का पहरुआ बन गया 
शायद उसे भी पता न चला 
ठीक-ठीक कोई नहीं जानता 
किस दिन शहर की पहचान में बदल गया वह मैदान 
न जाने कितनी सभाएं हुईं वहां 
न जाने किन-किन लोगों ने की वहां रैलियाँ 
वह जंतर-मंतर था अपने शहर का 
आपके भी शहर में होगा या रहा होगा 
कोई न कोई तमकुही कोठी का मैदान 
एक जंतर-मंतर 
सायास हरा दिए गए लोगों का आक्रोश 
वहीँ आकार लेता होगा 
वहीँ रंग पाता होगा अपनी पसंद का 
मेरे शहर में 
जिलाधिकारी की नाक के ठीक नीचे 
इसी मैदान में रचा जाता था 
प्रतिरोध का सौन्दर्य शास्त्र 
वह ज़मीन जो कभी ऐशगाह थी सामंतों की 
धन्य-धन्य होती थी 
किसान-मजूरों की चरण धूलि पा 
समय बदलने का 
एक जीवंत प्रतीक था तमकुही कोठी का मैदान 
लेकिन समय फिर बदल गया 
सामंतों ने फिर चोला बदल लिया 
अब नामोनिशान तक नहीं है मैदान का 
वहां कोठियां हैं फ्लैट्स हैं 
वह आदमी वहीँ बगल की सडक से 
धीरे से निकल जाता है 
उस ओर 
जहाँ कचहरी है 
और अब आपको क्या बताना 
आप तो जानते ही हैं 
जनतंत्र में कचहरी मृगतृष्णा है गरीब की

No comments: