Monday, November 12, 2012

नर्मदा किनारे से बेचैनी की कथा 15

जब वह समय आया था और वह भी बिछडने का तो बस एक ऐसा तगड़ा झूठ बोला और नाटक किया कि सब कुछ वैसा ही होता गया जैसा मै चाह रहा था पर आज ना जाने क्यों...............वो सब कह देने को मन करता है और जी करता है कि कह दूँ कि वो सब एक झूठ था, नाटक था, ताकि वो वहाँ जब जाये तो मेरी स्मृतिया विलोपित हो जाये एकदम से और फ़िर दिमाग वही करें जो करने के लिए उसे वहाँ भेजा गया था क्या मै भूल पाया हूँ इन चार महीनों में पांच अगस्त और उसके पहले.............के समय को.......पर आज तो बारह नवंबर है कब तक चलेगा यह झूठ .............किशोरी ताई ने बचपन में सिखाया था कि सारी दुनिया को बेवक़ूफ़ बनाओ पर अपने आप से झूठ मत बोलो और आज यह कन्फेस करता हूँ कि वो सब नाटक था अपने आपको समझाने की झूठी तसल्ली और तुम्हे चैन से रहने देने के लिए एक नाटक.............ताकि उस मायावी दुनिया में रच बस जाओ और सब सीख लों...............नर्मदा में पानी बहुत तेजी से गुजरा है कई बार मैंने बाढ़ देखी है- अपने कमरे ही में, और शहर में चलती नाव भी-- पर जो जीवन का जोखिम मै उठा रहा हूँ तुम्हारे बगैर, वो कैसे किसी बाढ़ में बह जाने देता यह मेरे-तुम्हारे सांझे सुख थे , ये मेरे निजी  दुःख थे जो मैंने यहाँ-वहाँ जा-जाकर इकठ्ठा किये थे तुम्हारे साथ और उन्ही सभी यादों के घेरे में रहने को ताउम्र रहने को अभिशप्त मै कैसे रह रहा हूँ.............यह बूझ पाओगे कभी??? लौट आओ एक बार लौट आओ उस किनारे से हम सब जान रहे है कि एक बड़ा पुल बन गया है इस उद्दाम और वेगवती  नदी पर............दो पटरियोंनुमा हो गया है जीवन अब पर क्या कही कोई संभावना नहीं ............नहीं, नहीं, लौट आओ और कह लेने दो एक बार फ़िर मुझे नर्मदे हर, हर, हर............!!! (नर्मदा किनारे से बेचैनी की कथा 15)

No comments: