Thursday, August 9, 2012

लघुता से प्रभुता मिले,
प्रभुता से प्रभु दूर,
चींटी शकर ले चली,
हाथी के सर धूर.

अज्ञात.

Courtesy - Navodit Saktawat

No comments: