Tuesday, July 28, 2015

सदी के महानतम नायक - डा ए पी जे अबुल कलाम को श्रद्धांजलि


8 अगस्त सन 2008 के दरबार हाल, राष्ट्रपति भवन, नई दिल्ली, मे जब वे आये और मैं उठा तो उन्होंने कंधा दबाकर बिठा दिया और बोले "sit down my dear friend, tell how women sarpanches are performing in your state ?" और मैं उनसे लगभग तीन मिनिट बतियाता रहा। आज उनकी मौत की खबर अभी रेल में पढी तो झुरझुरी आ गयी, डा कलाम आप शायद सच में विकसित भारत के लिए नींव के पत्थर थे और आज सारा राष्ट्र और पूरी वैज्ञानिक सोच वाली बिरादरी अपने को अनाथ महसूस कर रही है. आज जबकि आपके जैसे लोगों की देश को जरूरत थी तो आप चले गए, सोचिये मरते दम तक बच्चों , युवाओं में आप अपने भाषणों और प्रेरक उदबोधनों से देश के लिए अपने सपनों को पूरा करने के लिए लगे रहे. मुझे गर्व है कि मैंने आपको देखा है और सदी के महानतम नायक से बात की है. आप हमेशा मेरे दिल में रहेंगे.
सलाम कलाम साहब !!
मेरे जीवन का अनमोल चित्र जो अब धरोहर है.......

No comments: