Monday, October 16, 2017

Posts between 10 to 16 Oct 17



“This is the precept by which I have lived: Prepare for the worst; expect the best; and take what comes.”

इश्क ने गालिब मुकम्मल कर दिया
वरना आदमी भी थे किस काम के
- अशोक मिजाज़ बद्र
सागर मप्र

मित्रों को बहुत प्यार, दुआओं और दुलार सहित समर्पित !
मैं तुम्हें बु‍द्धिमत्ता की लड़ाई के लिए ललकारता लेकिन मैं देख रहा हूं कि तुम निहत्थे हो।
- विलियम शेक्सपीयर

जनाबे शेख से कह दो जो ये समझाने आए है
कि हम दैरो हरम से होते हुए मयखाने आए है।

Praises are my wages

No comments: