Sunday, September 10, 2017

ये भक्ति का द्युतकाल है कबीरा 10 सितम्बर 2017



ये भक्ति का द्युतकाल है कबीरा
______________________

बहुतेरों ने गाया कबीर को
बहुतेरों ने समझाया कबीर को
ठेठ मालवे से मेवात तक के गवई मन ने
अमेरिका से पाकिस्तान के लाहौर तक के बन्दे ने
बेचा नही किसी ने कबीर को इतिहास में ऐसा

कुछ लोग बाहर निकले और जहां गए बस गए
कुछ लोग गोल गोल घूमे और गोल गोल करते रहें
कुछ नदी नालों और हैंड पम्पों के किनारे बैठ गए
जमुना को कल्पना में लाकर खुलकर दी चुनौती
और इतना उम्दा गाया कि जी उठा कबीर

ये मालवे के भोले लोग दिनभर की मेहनत के बाद
शाम दो रोटी खाकर बीड़ी पीते गा बजा लेते थे मस्त होकर
खूब गाते थे कबीर, घुस आए कुछ लोग,
बेरौनक हो गया मालवे का सुरूर,
इन्ही समाज के हाशिये के लोगों को
हकालकर कबीर को ओढ़ लिया स्वांग की तरह
चार सुरों से शुरू की दुकान और धँधा बना लिया
साथ मे थे मूढ़मति व्यवस्था के हरकारे
लुटाते रहे राजकोष इतना कि अभेद्य किले बना लिए इन्होंने

परम्परा सिर्फ ओढ़ी बेची नही हस्तगत कर दी पीढ़ी को
मालवे से मेवात, स्टेनफोर्ड से कराची में बिका खूब कबीरा
जो वाचिक का सत्व था वो लक्ष्मी के बरक्स ठोस हो गया
यात्रा में इकठ्ठे होते है हर बरस और पदवियाँ बटोरने में लगा है जगत अब
तुमने ही शुरू की ये सोहबतें मुहब्बत की और नष्ट कर दिया एक जगत को
आज गाती है आबिदा या कोई मालवे का खिलंदड़ तो इतना मुंह फाड़ता है कि कबीर होता तो सुनकर मर जाता
ये कबीर के होने के तो कतई कोई मायने नही
कबीर की आड़ में महफिलें सजाकर लूट लेने के नए अंदाज है कार्पोरेट्स को

एक फकीर जो छोड़ गया था एक कमजोर को हाले ज़िन्दगी पर
लौट आता है धूल, धुएं और गर्द के साथ अक्सर खोजते घर अपना
कबीर रोता है दादू और मछेन्द्रनाथ के साथ
कहता है अवधूता कुदरत की गति न्यारी
दुखी है तुकाराम भी कि अभंग भी बिकने लगे
और मालवा मेवात के लोक संसार के गीत भी कि
अब क्या रखा है रस बिक गया नोट की चकाचौन्ध में
ईमान और नैतिकता बेचकर कबीर चौरे प्रकाशमान हो रहें है।

© संदीप नाईक

No comments: