Thursday, November 24, 2016

Demonetization यानी नोट बंदी पर कुछ फूटकर नोट्स



50 % काली कमाई को आयकर विभाग में जमा करो सुबह 11 बजे जाकर, प्रमाणपत्र लो
250 रूपये में मॉल के पी वी आर में राष्ट्रगीत सुनकर "सैयाजी से ब्रेक अप कर लिया" " मैं कमली हो गयी यार" "जग घूमिया थारे जैसा ना कोई" टाइप गाने का लुत्फ़ उठाओ डेढ़ बजे
घर लौटो दो चार कुत्तों को कुचलते हुए और लाईंन में खड़े टुच्चे नागरिकों को देखते हुए शाम को
सच कहता हूँ एकदम राष्ट्रभक्त टाइप फीलिंग आती है भगवान कसम रात को
थ्री चीयर्स फॉर सरकार राज !!!

29/XI/16

आमात्य जी
जी महामात्य ?
ये काला धन 50-50 तर्ज पर इकठ्ठा कर रहे हो क्या राम मंदिर बनवाया जा रहा है ?
महामात्य, सीमा में रहे और चुपचाप अपना बुढ़ापा काटें, फ़ालतू बात ना करें आप लोग, अंदर जाईये, पूज्य अम्बानी जी और अडानी जी उष्ण पेय पर अर्थ और अर्थ नीति की चर्चा करने आते ही होंगे, मुझे राजधर्म का पालन करने दें।

रघुकुल रीत, राम और एक वचन की बात करने वाले इतनी बार रोज बदलेंगे कि खुद को भी याद नही रहता कि क्या कहा था थोड़ी देर पहले। और यह 50 - 50 का बंटवारा किसी ठग या दलाल से कम है क्या और एक लोक कल्याणकारी राज्य में कितनी बेशर्मी से और किस मुंह से यह लागू कर रहे है ? यार संविधान खत्म कर दो साला टंटा ही खत्म, हम जैसे लोग मान लेंगे कि अबकि बार धंधेबाज सरकार। वैसे भी देश बेच ही दिया है अपने दामादों को, रॉबर्ट वाड्रा ने तो एनसीआर और हरियाना में जमीन हथियाई थी आप तो देश ले बैठे हो माई बाप !!!

हम अपने किशोरों, युवाओं और शोधार्थियों को इस तरह की चार सौ बीसी करके क्या शिक्षा दे रहे है, क्या मूल्य स्थापित कर रहे है। मनमोहन सिंह ने तो खुलेपन की नीति में देश का सोना गिरवी रख दिया था और आज हमारी चुनी हुई सरकार और हमने देश के मूल्य, ईमानदारी और न्याय बेच दिया। बार बार राम और रघुकुल रीत में वचन की दुहाई देने वाले रोज़ बदले ही नही वरन् धूर्तता से देश में ऐसी परम्परा डाल दी कि अब हम कभी अपने किशोरों, युवा और बच्चों को नैतिकता और ईमानदारी की बात नही कर पाएंगे।

हम हमेशा से व्यापारियों को गलियाते आये है पर सरकार से बड़ा व्यापारी कोई नही हो सकता। सिर्फ इस सरकार की बात नही इतिहास उठाकर देख लें। इन्होंने सिर्फ खुलकर दिखा दिया कि ये काले धन को सरकारी तरीक़े से सफ़ेद करके देंगे क्योकि कोई और फायदा उठाये इससे बेहतर है कि खुद ही धंधा करें और कमाई करें, और पूरी बेशर्मी से अपने इरादे जाहिर कर दिए है और अब क्रियान्वित भी कर रहे है। बस यही बात इन्हें भारत के इतिहास में सबसे धूर्त सरकार कहा जा सकता है।

50% in 50 DAYS
Good Going Sarkar Raj

*****

वादे भूला दे कसम तोड़ दे वो 

हालत पे अपनी हमे छोड़ दे वो

*नोट बदलने का काम ठीक से इसलिए नहीं हो पा रहा है, क्योंकि इसमें अध्यापकों को नहीं लगाया गया है....*
चुनाव,
जनगणना,
पशुगणना,
पेड़गणना,

मकानगणना,
पल्स पोलियो,
नसबंदी.....
जैसे हर राष्ट्रीय अभियानों में हमारी सेवा सरकार ने ली है लेकिन इस बार हमें याद ही नहीं किया गया...


*बेइज्ज़ती टाइप फीलिंग आ रही है....*
शिक्षक/अध्यापक/ गुरूजी संघ

भक्तों को अब विपश्यना में जाना चाहिए ताकि वे "सेल्फ हीलिंग" से थोड़े ठीक हो सकें, कुतर्कों की सीमा और देशप्रेम में इतने बड़े वाले हो गए है कि उन्हें अपने खुद के अस्तित्व में होने, इंसान होने या परिवार या वृहद समुदाय का हिस्सा होने का भी भान नही है।
ईश्वर इन सब मृतात्माओं को गहरी शान्ति दें ।
ॐ शान्ति !!!


22 जुलाई को गुम हुए विमान का क्या हुआ ?
देश के जे एन यू में अध्ययनरत युवा नजीब का क्या हुआ?
पेटीएम करूँ ?


पिछले डेढ़ माह से सफर में हूँ और याद नही पड़ता कि किसी भी जगह ढंग से लगातार नेट कवरेज तो दूर, मोबाइल का कवरेज भी मिला हो। दूरस्थ इलाकों में सुधीर चौधरी और रजत शर्मा को देखा नही तो मनोरंजन से भी वंचित रहा और देश गान भी नही सुना
पे टी एम करो
क्या खाक नेट बैंकिंग करूँ, जाते समय जो पांच कड़क सौ के पत्ते मित्र Chandrakant Goure ने इंदौर में पकड़ाये थे उसे अपने खाते से जोड़ भी नही पाया हूँ क्योकि नेट नही, स्पीड नही और देश बदल रहा है, भक्त कहते है !

जियो क्यों बेचा , अब समझे ठाकुर
घर से, दूकान से, परिवार से, देश से और अब उस इमारत से जिसकी देहरी को चूमा था !
कब तक भागोगे ठाकुर ?
(सन् 2019 में निर्मित होने वाली सुपर फ्लॉप फिल्म शोले का डायलॉग)

जो हमने दास्ताँ अपनी सुनाई 
आप क्यों रोये

किसी देश में एक जमींदार था जो अपनी जहागिरदारी में किसी मुश्किल के आने पर रो देता था और इस तरह वह अपनी प्रजा की नजरों में जमींदारी अगली बारी के लिए सेट कर लेता था।
(पाषाण युग के सिंधु घाटी सभ्यता से निकली मुग़ल कालीन कथा)

जब अकबर की प्रजा राजमुद्रा बन्द होने से दुखी हुई और त्राहि त्राहि मची तो अकबर ने पूछा अपने सभी नवरत्न और बीरबल से तो सबने कहा राजन एक सर्वे करवा लो, अकबर तैयार हो गया।
बीरबल ने ऐसी प्रश्नावली बनाई कि उसके जवाब भरने से अकबर भी खुश, प्रजा भी खुश और नवरत्न भी खुश, क्योकि जवाब अकबर के पक्ष में ही थे और कोई नकारात्मक जवाब दे ही नही सकता था। बस दुखी तो सिर्फ मेहनतकश थे जो दिन में मजदूरी के बदले राजकोष के सामने खड़े असहाय थे और घर में रोज मौत देख रहे थे।
(पाषाण युग में सिंधु घाटी से निकले देश में मुगल बादशाहों की परती परिकथा)
8 नवम्बर को ही तुरंत लिखा था कि यह डूबते बैंकों को और सरकार के खजाने से खाली मुद्रा को बचाने या समेटने की कोशिश है।
आखिर टेटली ने अभी स्वीकार किया है। और यह भी कहा कि इससे गरीबी दूर होगी यह तर्क मुझ मूर्ख को समझ नही आया।

इनकम टैक्स
सेल्स टैक्स
आई बी 
कोषालय 
कलेक्टर्स

सतर्कता विभाग
सीबीआई
भ्रष्टाचार नियामक आयोग
लोकायुक्त
पुलिस 
बैंक्स
विभागों की अपनी निगरानी समितियां 
आदि .....


एक जरूरी सवाल आप से माननीय प्रधानमंत्री जी -
ये सब क्या कर रहे थे जब लोग करोड़ों रूपये इकट्ठे कर रहे थे, तिजोरियां भर रहे थे और मार्केट में लाखों करोडो अरबों का लेन देन हो रहा था शेयर बाजार से, हवाले से और सराफा बाजारों से । आज आपकी पुलिस रास्तों पर गाड़ियां रोककर चेकिंग कर रही है, लोग माँ गंगा में नोट बहा रहे है, और ठंड में अलाव जला रहे है जब आपने यह कड़ा निर्णय लिया। इतने साल का हिसाब छोड़िए वे तो भ्रष्ट थे ही पर आपके ढाई साल में , आपके राज्यों में जहां मुख्यमंत्रियों के खातों में दस दस करोड़ जमा हो रहे थे तो ये सब होनहार क्या आरती में या यज्ञ में व्यस्त थे ?
इसका स्पष्ट अर्थ है कि ये सारे विभाग मदमस्त सफ़ेद हाथी है, मक्कार है , देश द्रोही है और सत्तर बरसों में अपना काम मुस्तैदी से नही किया है और सिर्फ मुफ्त की तनख्वाह खाये है बल्कि जिस अंदाज़ में लोगों के घरों से नोटों की गड्डियां निकल रही है उसका एक हिस्सा भी इन विभागों ने हड़पा है।
प्रधानमंत्री जी आपने बढ़िया काम किया, अब जरा हिम्मत हो तो कांग्रेस शासनकाल में पलें इन विभागों के हरामखोर कर्मचारियों से भी निपटें और हिसाब लें, साथ ही और थोड़ी हिम्मत जुटा लें तो ये सब बन्द कर दें और सरकार का और हमारे टेक्स का रुपया देश हित में बचा लें। या फिर इनके काम और तनख्वाह को पुनर्परिभाषित करें स्पष्टता से ।
भक्तों को बुरा भला ना लगे इसलिए पहले पढ़े इसे फिर ही कमेंट करें वरना तो प्रणाम है ही आपको 

मेरे घर की परंपरा और महान हिन्दू संस्कृति के अनुसार मेरे घर आँगन में उगी हुई तुलसी की मुझे शादी करनी है। बैंक से निवेदन है कि मेरे अकाउंट से ढाई लाख नगदी भुगतान करने का कष्ट करें।
पंछी बाई डडसेना
ये तेलिया पानी, पंडरिया, जिला कवर्धा छग में आंगनवाड़ी कार्यकर्ता है। तेलिया पानी जमीन से 1400 फुट ऊंचा और पंडरिया से 50 किमी दूर है। कोई भक्त जाएगा, किसी में हिम्मत है तो आये यहां, मैं इंतज़ार कर रहा हूँ।
यह अब तैयारी करेगी कि नेट बैंकिंग सीखे क्योकि सरकार अब सारा काम नेट से करने जा रही है, यह दीगर बात है कि इसके यहां मोबाइल कवरेज भी बड़ी मुश्किल से मिलता है, गाँव में बिजली सोलर से शाम को सात से सुबह पांच बजे तक मात्र तीन खम्बों पर ही मिलती है, पानी है नही पहाड़ पर और ऊपर से इसकी और आंगनवाड़ी वाले बच्चे, जो ज्यादातर कुपोषित है, की खाद्य सुरक्षा भी नही है। अंग्रेजी तो दूर हिंदी भी मुश्किल से बोल समझ पाती है ये।
मेक इन इंडिया और डिजिटल इंडिया के बारे में इसने सुना नही है जब पूछा तो औचक सी देखने लगी यह। 500 और 1000 के नोट बन्द हो गए है इसे खबर नही 50 किमी नीचे उतर कर यह तेल, नमक और राशन लेने पैदल आती है।
नए स्वर्णिम युग में इसका स्वागत है।

हमारे कामरेड्स कहाँ है सड़कों पर या कांग्रेस मुख्यालय में चेंज करवा रहे है। 60 साल कांग्रेस के पल्लू से बंधे रहे गिरगिटों की तरह और सिंगुर, नांदीग्राम में असली रंग दिखाया, और अब गायब है ।
कामरेड का कोट कहानी याद आ रही है !


कुपोषण से निपट नही सकते
एक प्रवेश परीक्षा करवा नही सकते भ्रष्टाचार के बिना
सबको संडास में बैठा नही सकते
पीने का पानी नही दे सकते
सड़क नही बनवा सकते
अपराध रोक नही सकते
मोबाइल टॉवर का कवरेज नही ठीक करवा सकते
सबको शिक्षा नही दे सकते
सबको स्वास्थ्य सुविधा नही दे सकते
कांग्रेस को कोसना बन्द नही कर सकते ढाई साल में
पर
सबको नेट बैंकिंग सिखाएंगे और ई ट्रांजेक्शन करवाएंगे 
गजब की समझ और जमीनी पकड़ है माई बाप !!!


जिस देश में लोगों को बच्चों को पोलियो का ड्राप पिलाने को घर घर जाना पड़ता हो, जिस देश में शौचालय बनाने के लिए सरकार को हमारी मेहनत के रूपये देश के लोगों को सबसीडी के रूप में देना पड़े और हगना सीखाना पड़े, जिस देश में बैंक का फ़ार्म या पोस्ट ऑफिस का फॉर्म भरने को बाबू दस बीस रुपया गटक लें आप उस देश में लोगों को इ ट्रांजेक्शन, नेट बैंकिंग और ऑनलाइन काम सीखाना चाहते है, कमाल है आपकी भारत को लेकर क्या समझ है और क्या पकड़ है जमीनी मुद्दों और हकीकतों की और उनसे उम्मीद करते है कि लोग यह सब कर लेंगे .यदि हाँ तो आपसे बड़ा वाला कोई नहीं है श्रीमान जी......

कितने शर्म की बात है कि देशभक्ति और राष्ट्र प्रेम ऐसे लोग सिखा रहे है जिनकी इंटीग्रीटी संदेहास्पद है और इतिहास गवाह है कि ये वो लोग है जो ना स्वतन्त्रता आन्दोलन में शरीक हुए, ना सत्तर सालों में कभी आम गरीबों के साथ हुए. चोर - उचक्के, मवाली किस्म के धंधेबाज लोग जो चवन्नी अठन्नी के लिए आम आदमी के कपडे उतार लिए और अपने घर भर लिए वे लोग आज हमें देश प्रेम सिखा रहे है, धिक्कार है तुम लोगों पर और मजेदार यह है कि ये कमीने खुद भी लाइन में नहीं खड़े है और अन्दर से सांठ गाँठ करके अभी भी तिजोरी भर लिए है.

अबकि बार बस बदलना है
10 दिन में व्यवस्था सुधरी नही है और देशवासी त्रस्त हो गए है। सरकार होती कौन है मेरे ही रूपये पर कब्जा करने वाली, निकम्मी निठल्ली व्यवस्था और तानाशाह के होते देश के लोग सड़कों पर परेशान है और इन भ्रष्ट लोगों ने कार्पोरेट्स के कर्ज माफ कर दिए, देश के कमीने कार्पोरेट्स इनके दामाद है जिनके लिए मेरे जैसे आम आदमी को पिछले आठ दिनों से परेशान होना पड़ रहा है ?
इतने दिनों में जब ये रुपया ए टी एम में नही डाल पा रहे तो बचे हुए 40 दिनों में क्या खाक कर लेंगे, कितनी और मौतों का इंतज़ार है साहब को अभी और कितना हमे बर्बाद करके कार्पोरेट्स को देश से भगवाने में मदद करोगे ?
कमाल की बात है सुप्रीम कोर्ट और राष्ट्रपति स्वतः संज्ञान ना लेकर चुप है और एक तानाशाह ने देश को मात्र ढाई साल में सड़क पर ला दिया !

ज्यादातर दोष राजा के नही उसके सिपहसालारों के होते है और ये रत्न जड़ित नगीने हर राज्य में , हर जगह और हर कालखंड में होते है, इसलिए राजा को कोसा जाना ठीक नही, हाँ इसके लिए राजा को दोषी मानना इसलिए उचित है क्योंकि वह उस गर्दभ सभा में शीश झुकाकर अपनी महत्वकांक्षा को पूरा करने को और अमर होने की प्रक्रिया में सब कुछ कर गुजरने को सहर्ष तैयार हो जाता है।

जितनी बकैती बैठक के बाद चैनल्स और अधिकारी कर रहे है, उसका असर जमीन पर दिख नही रहा। जो भी हो, बैंक्स ने बड़े हरामी कर्जदारों से वसूली करना दूर, नाम बताना दूर पर अपनी कंगाली दूर कर ली है। 
भाण्ड और बकैत बयान उगल रहे है, नौटंकीबाज सक्रीय है, मीडिया को पन्ने भरने को मसाला मिल गया है पर हम भारत के लोग संविधान के दायरों में रहकर भी हैरान, त्रस्त और संताप में है। राष्ट्र भक्ति के उन्माद में डूबे लोगों की मति मारी गयी है और किसी में हिम्मत नही कि कह दें कि राजा ....


समान आचार संहिता, एक के बदले दस सिर, राम मंदिर, 15 लाख में 500 और 1000 के नोट बदलना कही नही था भिया
याद दिला रहा हूँ

मेरी मेहनत की कमाई और उसके इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाने वालों की निंदा करता हूँ। ये होते कौन है मेरे जीवन के फैसले लेने वाले। मेरे रूपये पर लगा बैन उठाओ और होश में आओ, अगर तुम्हारे बैंक और एटीएम मेरा रुपया नही दे सकते तो तुमसे बड़ा निकम्मा कोई नही है।

ये दांव महंगा पड़ेगा ठाकुर 
याद रखना

अंतरराष्ट्रीय साक्षरता वर्ष 1990 के बाद एर्नाकुलम जिला साक्षर घोषित हुआ था, फिर तो होड़ लग गयी थी साक्षर बनने की और इस तरह से सभी जिले साक्षर घोषित हो गए - देश शिक्षित और साक्षर है अब।
अब होड़ है खुले में शौच से मुक्त जिले बनने की, देखते जाईये सभी जिले जल्दी ही मुक्त हो जाएंगे। हरदा, इंदौर से लेकर सब इस प्रतिस्पर्धा में शामिल है !
हमारे परिवक्व, होनहार, सशक्त गिरगिटवतार और दिमागी क्रीम मतलब ब्यूरोक्रेट्स इस भारत को खुले में शौच से मुक्त करवाकर ही मानेंगे।अब दो हजार के नोट पर भी स्वच्छ भारत का स्वर्णिम चश्मा आ गया है तो फिर देर किस बात की !
अग्रिम बधाई देशवासियों।
Very nice apparent Eye Wash cum Face Lift to clean up Pak, Surgical attack, Rafel deals, Simi encounter and many more things, indeed the best move . This is how a Politician should deal & manage things like public, corporates, Shivraj, Raman singh and other budding prospective PMs 
थोड़ा पीछे जाएँ, रघु राजन के रहते यह सब नही हो सकता था, इसलिए उनके साथ आख़िरी में विवाद होते रहे।
अंत में अम्बानी के जीजा ने यह प्रस्ताव माना होगा, और ज्वाइन करते ही तैयारी शुरू की होगी क्योंकि लंबी दूरी तय करने में वक्त तो लगता है, ₹2000 का नोट जो जी पी एस से युक्त है इतनी बड़ी मात्रा में छापने और कम्प्यूटराइज करने में समय तो लगा होगा।
निश्चित ही इसमें एक बड़ा मानव संसाधन लगा होगा जो बेहद गुप्त तरीके से काम कर रहा होगा और सरकार के वित्त मंत्री या कुछ और लोग ही इसमें शामिल होंगे , ने भी गोपनीयता बरती है।

अब सवाल यह है कि 8 नवम्बर की रात्रि का समय ही क्यों चुना गया मोदी जी के द्वारा, दूसरा बाईस बिलियन के नोट एकदम रद्दी हो गये । कागज, पर्यावरण, मानव श्रम और व्यवस्थागत नुकसान की कल्पना ही बेमानी है।
थोड़ा और इंतज़ार करिये, पेन्डौरा बॉक्स अभी खुला ही है....

समझिये, आपको कैश जमा कराना है अपने अकाउंट में, फिर आप सिर्फ दो हजार ही रोज निकाल पाएंगें। मतलब यदि मैं 100000 जमा कराता हूँ परसों तो मुझे पचास दिन चाहिए 2000 रोज निकालने को। अर्थात सरकार के पास 1 से 49 दिनों के लिए मेरा रूपया सुरक्षित है और सरकार उस पर ब्याज़ कमा लेगी। अगर देवास शहर में चार लाख लोग है और पांच हजार रुपया लोग जमा करते है तो कितना नगद सरकार के पास हो जाएगा। इस तरह से मुद्रा की कमी दूर होगी और विदेशी मुद्रा का जुगाड़ होगा और आर्थिक हाजमा सुधरेगा।
मुझे लगता है देश में विदेशी मुद्रा का भयानक संकट है और इसके लिए यह सब किया गया है, देश के छोटे खुदरा व्यापारी और लोग सडकों पर होंगे । देर रात किये गए इस बदलाव की घोषणा से जो अफरा तफरी मची है वह बहुत चिंताजनक है और सत्तासीन पार्टी को यह भुगतना पड़े हो सकता है पर आम लोगों के लिए यह फायदे मन्द हो पाए। 
मोदी सरकार का निर्णय प्रशंसनीय जरूर है पर क्या हमारे बैंक और बाकी संस्थाएं यह सब क्राईसिस मैनेजमेंट के लिए सक्षम है और क्या हमारे पास ₹100 के नोट पर्याप्त मात्रा में है ? देवास में रहने से करेंसी के प्रकाशन का ज्ञान है, सो इसलिए इसकी विकरालता को समझ सकता हूँ।


एक जरूरी कविता- जो पढ़ी जाना चाहिए
*********************************

पहले वे कम्युनिस्टों के लिए आये,
मैं चुप था, क्योंकि मैं कम्युनिस्ट नहीं था ।
फिर वे ट्रेड यूनियनिस्टों के लिए आये,
मैं चुप था, क्योंकि मैं ट्रेड यूनियनिस्ट नहीं था ।
फिर वे यहूदियों के लिए आये,
मैं चुप था, क्योंकि मैं यहूदी नहीं था ।
अंत में वे मेरे लिए आये,
और मेरे लिए बोलने वाला कोई नहीं था ।
- मार्टिन नीमोलर


No comments: