Monday, October 31, 2016

Diwali 30 Oct 2016


मैं मरूंगा सुखी
मैंने जीवन की धज्जियां उड़ाई हैं.
- अज्ञेय

*****

जिस अंदाज में देवास जैसे छोटे से कस्बे में पटाखों की गूँज है और रोशनी की जगमगाहट है उससे लगता नही कि मैं एक औसत मध्यम वर्गीय लोगों और प्रायः रूपये का रोना रोने वालों के बीच रहता हूँ और अब मुझे फिर से औद्योगिक क्षेत्र की समाप्ति के बाद उजड़े शहर में गरीबी, बेचारगी, बेरोजगारी, बाज़ार, मालरहित कस्बाई मानसिकता और अभाव जैसे शब्दो को परिभाषित करना होगा।
समझ नही आता कि रुपया आता कहाँ से कैसे है और कहाँ और क्यों जा रहा है बावजूद इसके कि यह कस्बा आज भी औसत जीवन जीता है और लगभग हर घर किसी ना किसी ऋण की किश्तें चुकाते हुए, हाँफते हुए साँसों के सफर में आगे बढ़ने की दौड़ में शामिल है।

पिछले 48 वर्षों में पहली बार मुझे यह एहसास हुआ है तो लगता है कि मैं गलत हूँ, देश सच में बदला है और लोग खुश है, तरक्की पर है और उन्नति कर रहे है। गलत मूल्यांकन करने के लिए मैं खुद दोषी हूँ, कल 30 करोड़ का सोना बिका इस कस्बे में अखबार आज दहाड़ रहे थे और वुडलैंड से लेकर रेड चीफ और सारे ब्रांड बेचने वाले मित्र खुश है कि माल खप गया है।
देश के कार्बन डेटिंग में भी अब हम हिस्सा बंटा सकते है क्योंकि अभी देख रहा हूँ तो दूर दूर तक आसमान में सिर्फ धुंआ ही दिख रहा है, ध्वनि प्रदूषण में भी हम देवासी सबसे आगे हो सकते है आज, कल इतना कचरा होगा कि सुबह हजार दस हजार लोगों की टीम को नगर निगम स्वच्छ भारत फंड से एक हफ्ते का काम दे सकती है। मुझे गर्व की अनुभूति है कि इस तरह से हम रोजगार का निर्माण कर रहे है।
सच में मैं बहुत खुश हूँ और इस तरह की खुशी अब देवास जिले के 1068 गांवो में देखने को ज़िंदा रहना चाहता हूँ । शायद वहाँ भी ये गूँज सुनाई दे रही हो, मित्र मुझे अपडेट करें।
आमीन !
*****
पुराने घाव अगर कही हो तो सबको चुकता करके रिश्तों की नई बही बनाओ और प्यार के इंद्राज करके अपना बेलेन्स बढाओ, जीवन की आपाधापी में वैसे ही हर कोई त्रस्त है, तनाव में है और अगर हमारी दोस्ती और भरपूर स्नेह से दो पल मुस्कुरा भी लें तो और क्या चाहिए।
किसी व्यापारी की भांति पुराना उधार बराबर कर लें , जी भर कर कोस लें मुझे और कल से फिर प्यार मुहब्बत और दोस्ती का नया खाता खोले।
यही दीवाली है मेरी और यही पैगाम देना चाहता हूँ आज के इस दिन पर।
आप सबको, मित्रों और परिजनों को मंगलमय दीवाली की मुबारकबाद और दिल से बहुत सारी प्यार भरी शुभकामनाएं।

No comments: