Sunday, February 13, 2011

बड़े बड़े पेड़ और बड़े बड़े पानी के सोत देखता हूँ तो लगता है कि ये सब कहा से जीवन ऊर्जा प्राप्त करते होंगे, और फिर लगता है कि जीवन ऐसे ही स्रोतों से चलता है एक अदृश्य ऊर्जा से और एक अदभुत शक्ति से वरना तो हम सब मन के जीते जीत है और मन के हारे हार........

1 comment:

akshat said...

I read ur thought..... well in my point of view, jivan ki saswat urja hamare aandar hi rahti hai jis se connect kar ke aap aasim aanad ka aanubhav kar sakte hai.